विश्व मधुमेह दिवस पर मधुमेह से बचने के सिखाए गुर

  |   Mahobanews

कुलपहाड़ (महोबा)। विश्व मधुमेह दिवस पर एकल विद्यालय संगठन और अमर उजाला फाउंडेशन के तत्वावधान में कस्बे के एक पैलेस में कार्यशाला हुई। आधा सैकड़ा से ज्यादा गांव के आए लोगों को मधुमेह के उपचार और बचाव के बावत जानकारी दी। साथ ही कार्यशाला से सीखकर गांव जाने पर ग्रामीणों को मधुमेह से रोकथाम के प्रति जागरूक करने पर जोर दिया।

डॉ. सौरभ खरे ने कहा कि भारत में हर पांचवा व्यक्ति मधुमेह रोग से पीड़ित है। यह बीमारी तनाव और असामान्य दिनचर्या के कारण हो जाती है। मधुमेह ने एक महामारी का रूप ले लिया है इसलिए अमर उजाला फाउंडेशन एनएसएस, एनसीसी, वर्ल्ड डायबिटीज फाउंडेशन, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश सरकार व अन्य संगठन लोगों को बीमारी से बचाने के लिए आगे आए हैं। एकल विद्यालय संगठन के जिला प्रशिक्षण प्रमुख शिशुपाल ने इस बीमारी से बचने के लिए व्यायाम बताए। कहा कि सुबह कम से कम 30 मिनट तेज चलने की आदत डाले। भोजन एक बार में न लेकर कई बार ले और पर्याप्त पानी का सेवन ले। शारीरिक श्रम करने पर भी जोर दिया। इससे यह बीमारी नियंत्रण में रहेगी। बताया कि टाइप 1 डायबिटीज में इंसुलिन कम मात्रा में बनता है। यह मात्र दो प्रतिशत लोगों में होता है। हाथ पैर में दर्द, जल्दी भूख लगना, बार-बार पेसाब आना व कमजोरी महसूस होना। बचाव ही सबसे बेहतर तरीका है। तनाव से बचे। ध्रूमपान, अकेलेपन से बचे, शारीरिक श्रम करे। भोजन करने से पहले 120 व भोजन करने के बाद 145 शुगर लेवल होना चाहिए।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/VSs8wAAA

📲 Get Mahoba News on Whatsapp 💬