शौचालयों पर 100 करोड़ खर्च, फिर भी कहीं छत तो कहीं गड्ढे गायब

  |   Sheopurnews

श्योपुर

सरकारी दस्तावेजों में पूरा जिला ओडीएफ हो गया। असल में जिला इस उपाधि से कोसों दूर है। जिले के कराहल विकासखंड और विजयपुर तहसील में कई लोगों के घर शौचालय अब भी अधूरे पड़े हैं, तो कई जगह छत व गड्ढे गायब हैं। वहीं शहर में जो शौचालय बने हैं वह भी गुणवत्ता पर प्रश्रचिन्ह खड़ा कर रहे हैं। स्वच्छता के नाम पर भले ही प्रशासन ने 100 करोड़ से अधिक की राशि खर्च कर 87 हजार से अधिक शौचालयों का निर्माण करा जिला ओडीएफ कर दिया, लेकिन अभी तक लोग खुले में शौच जा रहे हैं।

कराहल विकासखंड के गांव शिवकॉलोनी खिरखिरी पंचायत में निवासरत प्रभु पुत्र गोवंदी, रामलखन व मनीराम शौचालयों का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। इनके शौचालय आधे अधूरे पड़े हैं। इनके यहां शौचालयों का निर्माण पूरा नहीं हो सका है। जबकि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत जिले में वर्ष 2012 के बेस लाइन सर्वे के आधार पर 87 हजार 705 परिवारों के घरों में शौचालय बनाने का लक्ष्य था। सितंबर 2018 में श्योपुर जिले को ओडीएफ घोषित कर दिया, लेकिन धरातल पर स्थिति कुछ और ही है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/93amLgAA

📲 Get Sheopur News on Whatsapp 💬