शाजापुर अस्पताल में जो कल था वह आज गायब

  |   Ujjainnews

शाजापुर. कायाकल्प अभियान को लेकर बीते कई दिनों से जिला अस्पताल में सुधार कार्य किया जा रहा है। बुधवार को निरीक्षण के दौरान जिला अस्पताल अनेक व्यवस्थाएं सुधरी हुई नजर आई, लेकिन टीम का दौरा होने के बाद अगले दिन से ही व्यवस्थाएं खत्म हो गई। यानी अस्पताल प्रबंधन ने जो व्यवस्थाएं की थी सिर्फ अभियान के लिए ही थी, ऐसे में मरीज अटेंडर से कोई सरोकार नहीं रहा। बता दें कि बुधवार को वाहनों का पार्किंग स्थल बदल दिया गया, गांधी धर्मशाला के पास वाहनों की पार्किंग कराई गई, परिसर खाली रहा। गुरुवार को पुन: पार्किंग व्यवस्था का ढर्रा बिगड़ा नजर आया, परिसर से लेकर अस्पताल के ओपीडी व गेट तक वाहन लगे रहे। अस्पताल परिसर के दो गेट में से एक ही गेट से वाहनों को इंट्री दी जा रही थी, गुरुवार को दोनों गेट पहले की तरह खुले रहे। खास बात यह है कि कायाकल्प अभियान अंतर्गत होने वाले निरीक्षण को लेकर अस्पताल द्वार से लेकर पूरे परिसर में बड़े पौधे लगे गमले लगाए गए थे, ताकि अस्पताल सुंदर नजर आए, एक ही दिन में इन गमलों को हटा दिया गया। यानी अस्पताल प्रबंधन जो मेहनत कर रहा था वह सिर्फ अभियान के तहत अवार्ड लेने के लिए है। बुधवार को निरीक्षण के दौरान जिला अस्पताल का स्वरूप प्रायवेट अस्पताल से बेहतर लग रहा था, मरीज अटेंडर भी हेरत थे कि साफ बिस्तर और चकाचक सफाई ये व्यवस्था पहले कभी नहीं देखी, लेकिन दोबारा गुरुवार को आने वाले मरीजों को परिसर से पार्किंग व्यवस्था देखकर ही स्थिति का पता लग गया।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/eESerwAA

📲 Get Ujjain News on Whatsapp 💬