शराब की तस्करी बेलगाम, थानों में नहीं है मैन पावर

  |   Jhalawarnews

,

एक्सक्लूसिव

हरिसिंह गुर्जर

झालावाड़. शराब तस्करी को रोकने व अवैध शराब की धरपकड़ के लिए गठित आबकारी विभाग में निरीक्षकों का टोटा होने से कार्रवाई करने में विभाग को नाको चने चबाने पड़ रहे हैं। रात आठ बजे बाद बिकने वाली शराब को न तो यह रोक पा रहे है और न ही तस्करी पर इनकी किसी तरह से लगाम है। सालाना विभाग पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। इसके बाद भी विभाग से ज्यादा पुलिस विभाग तस्करी की दारू पकड़ रहा है। विभाग में कर्मचारियों के नहीं होने से अवैध मदिरा बिकने व गड़बड़ी होने पर भी यह कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं, गौरतलब है कि सरकार ने लाइसेंसी दुकानों पर कार्रवाई का पूरा अधिकार आबकारी विभाग को दे रखा है। लेकिन प्रदेशभर में विभाग में निरीक्षकों की संख्या महज 100 है, जो ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। जिले की बात करें तो सर्किल में मात्र एक सर्किल में ही निरीक्षण है, शेष भगवान भरोसे ही चल रहे है। ऐसे में तस्करों की मौजा हो रही है। विभाग में मैन पावर की कमी के चलते तस्करी नहीं रूक पा रही है। अन्य जिलों के मुकाबले अवैध शराब की धरपकड़ भी जिला काफी पिछड़ा हुआ है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/MkWEEwAA

📲 Get Jhalawar News on Whatsapp 💬