शासन जीर्णोद्धार को तैयार, अफसर बोले नहीं हैं तालाब

  |   Datianews

दतिया/जिगना. प्रदेश शासन के जल संसाधन विभाग ने भले ही कुछ दिन पहले प्राचीन तालाबों के जीर्णोद्धार की बात कही थी लेकिन यह केवल कागजों में ही दिख रही है जिले में आधा दर्जन से ज्यादा पुराने व विशाल तालाब मौजूद हैं लेकिन न तो इनका जीर्णोद्धार किया जा रहा है और न ही इन पर विभाग ध्यान दे रहे हैं। हाल ही में शासन को भेजी रिपोर्ट में इन तालाबों के अस्तित्व पर ही सवाल खड़े कर दिए गए हैं।

जिले के कई गांव में प्राचीन तालाब है। इनके रखरखाव पर जल संसाधन विभाग ध्यान नहीं दे रहा है न ही इस ओर ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के अधिकारियों का ध्यान है। हालात यह है कि इन प्राचीन तालाबों की पार टूटने को है। इनसे पत्थर निकल रहे हैं अगर ऐसा ही हाल रहा तो वह दिन दूर नहीं जब ये तालाब अपना अस्तित्व पूरी तरह से खो देंगे। इससे न केवल किसानों को नुकसान होगा बल्कि प्राचीन धरोहर भी खतरे में आ जाएगी।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/XYIQ-wAA

📲 Get Datia News on Whatsapp 💬