सड़क पर भविष्य तलाश रहे बाल मजदूर

  |   Hamirpur-Hpnews

हमीरपुर। प्रदेशभर के स्कूलों और कॉलेजों में यहां 14 नवंबर को पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिवस पर बाल दिवस कार्यक्रमों का आयोजन किया गया वहीं, जिला मुख्यालय हमीरपुर में देश का भविष्य सड़कों पर भीख मांगता नजर आया। नाबालिग बच्चे जिला मुख्यालय के होटलों और रेस्तरां में काम कर रहे हैं। वहीं, सड़कों पर नौनिहाल हाथ में कटोरा पकड़ कर भीख मांगते नजर आए। जिससे बाल मजदूरी पर प्रतिबंध के दावों पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं।

प्रदेश सरकार आए दिन बाल मजदूर पर रोकथाम के दावे सार्वजनिक मंच पर कर रही है लेकिन, हमीरपुर में बाल मजदूरों की हालत देख बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य और मूलभूत सुविधाओं की दावों पर प्रश्नचिन्ह लग रहे हैं। जिले में कई होटल और रेस्तरां हैं, जहां पर प्रवासी परिवारों के बच्चे मजदूरी कर रहे हैं। श्रम विभाग जब व्यापारिक प्रतिष्ठानों में दबिश देता है तो यह बच्चे कुछ देर के लिए छुप जाते हैं। लेकिन विभाग के वहां से जाते ही लौट आते हैं। वीरवार को गांधी चौक पर आधा दर्जन बच्चे भीख मांग रहे थे। बच्चों का कहना है कि वह दूसरे प्रदेश से यहां आए हैं। माता-पिता दिहाड़ी मजदूरी के लिए घर से निकल जाते हैं। लेकिन, अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए वह कई बार मजदूरी करते हैं तो कई बार भीख मांग कर अपना पेट पालते हैं। उधर, श्रम निरीक्षक राम शर्मा ने कहा कि वह शीघ्र ही व्यापारिक प्रतिष्ठानों में बाल मजदूरी के मामलों की जांच करेंगे।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/glRrlQAA

📲 Get Hamirpur (HP) News on Whatsapp 💬