सरस डेयरी को नहीं मिल रहा स्कूलों का सहारा

  |   Karaulinews

हिण्डौनसिटी. हिण्डौन सरस डेयरी को सरकारी स्कूलों का सहारा नहीं मिल रहा है। अधिकांश सरकारी स्कूलों में आदेशों का उल्लंघन कर निजी डेयरियों से दूध पहुंचने से सरस डेयरी मंदी के दौर से जूझ रही है। ऐसे में बच्चों को पुष्ट करने के लिए संचालित अन्नपूर्णा योजना से सरस डेयरी समृद्ध नहीं हो सकी है। स्थिति यह है कि स्कूल छात्र संख्या की जरुरत पचास फीसदी दूध भी सरस डेयरी से नहीं ले रहे हैं।

गत वर्ष राज्य सरकार द्वारा अन्नपूर्णा दूध योजना लागू करने से दूध के घटते विपणन से घाटे से जूझ रहे सवाईमाधोपुर-करौली दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ को डेयरी के संवरने की आस जगी थी। डेयरी के अधिकारियों ने अकेले हिण्डौन ब्लॉक में प्रतिदिन 4-5 हजार लीटर दूध की खपत का आकलन किया। वहीं दूध के लिए बड़ा सरकारी विपणन क्षेत्र (मार्केट) मिलने से स्थापना के समय से ही आर्थिक बोझ से दबी डेयरी के उबरनेे की उम्मीद की जानी लगी। सरकारी स्कूलों में योजना के बदस्तूर रहने के बाद भी डेयरी से दूध की आपूर्ति में आशानुकूल इजाफा नहीं हुआ है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/_DUyMQAA

📲 Get Karauli News on Whatsapp 💬