45 साल में कचरे- सीवरेज निस्तारण का प्रबंध भी नहीं कर पाई नगरपालिका

  |   Rajsamandnews

लक्ष्मणसिंह राठौड़ @ राजसमंद

आमेट शहर में नगरपालिका गठन के ठीक 45 साल होने के बाद भी कचरा निस्तारण, सीवरेज व नालियों की गन्दगी के निस्तारण का भी प्रबंध नहीं हो पाया। इस लंबे अंतराल में बीस प्रशासक और दस अध्यक्ष बदल गए, लेकिन कोई भी आमेट के समग्र विकास को लेकर गंभीर नहीं दिखा। तभी अब तक आमेट का ज्यादातर कचरे का निस्तारण चन्द्रभागा नदी में ही हो रहा है। हैरानी की बात यह है कि नालियों व सीवरेज की गन्दगी तक भी नदी में डाली जा रही है। सड़क, नाली के व्यवस्थित निर्माण नहीं होने व सफाई व्यवस्था को लेकर भी कोई भी शहरवासी संतुष्ट नहीं दिखा। कोई आवागमन की समस्या से त्रस्त दिखा, तो कोई नियमित सफाई नहीं होने से परेशान है। किसी जगह नालियों की सफाई नहीं हो रही, तो कहीं सड़क पर गन्दगी बह रही है। शहर की कई सीमावर्ती कॉलोनियों में तो सड़कें भी नहीं है और न ही रोड लाइट का प्रबंध।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/kGAsHQAA

📲 Get Rajsamand News on Whatsapp 💬