👉एक साल पहले जैश-ए-मोहम्मद में 😲शामिल हुआ था आत्मघाती हमलावर 👹आदिल अहमद डार

  |   समाचार

कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को हुए फिदायीन हमले में सीआरपीएफ के 37 जवान शहीद हो गए। बताया जा रहा है कि इस खूनी खेल को अंजाम देने वाला पुलवामा का ही आदिल अहमद डार था। अफगानिस्तान से अपनी फौज वापस बुलाने की अमेरिका की घोषणा को तालिबान ने अपनी जीत के रूप में दुनिया के सामने पेश किया और इस बात ने डार को आत्मघाती हमलावर बनने के लिए प्रेरित किया। डार एक साल पहले जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था।

पुलवामा हमले के कुछ मिनट बाद ही मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स पर एक युवक की तस्वीर और दो वीडियो सर्कुलेट होने लगे। इन दोनों वीडियो में इस युवक ने पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ली। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक इनमें से एक वीडियो कश्मीरी और दूसरा उर्दू में था। इस वीडियो में आदिल के 'शहादत' का संदेश था। ऐसा लगता है कि ये दोनों वीडियो हमले से पहले जैश-ए-मोहम्मद ने रिकॉर्ड किए थे।

इस वीडियो में खुद को जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी होने का दावा करने वाले युवक ने खुद की पहचान पुलवामा के काकापोरा इलाके के गांदीबाघ के आदिल अहमद डार उर्फ वकास कमांडर के रूप में की। पुलिस सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि सीआरपीएफ की बस से विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो टकराने वाला संदिग्ध आत्मघाती हमलावर आदिल ही था।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/uZmXXgAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬