🤜बड़ी कार्रवाई को अंजाम दे सकती है 👌मोदी सरकार, राजनाथ सिंह ने दिया👊 संकेत

  |   समाचार

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में बृहस्पतिवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक भीषण फिदायिन हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गये और कई अन्य बुरी तरह घायल हो गये। खबरों के मुताबिक जैश के आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों को ले जा रही बस को टक्कर मार दी, जिसमें 44 जवानों के शहीद होने की खबर है।। यह 2016 में हुए उरी हमले के बाद सबसे भीषण आतंकवादी हमला है।

हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'यह हमला पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किया गया है। मैं और सारा देश इसकी भत्सर्ना करता है। आतंकी हमले का जवा देने के लिए सारा देश एक है। हम अपनी जिम्मेदारियों को अच्छी तरह समझते हैं और देश की जनता को यह भरोसा देते हैं कि इस पर जो भी कार्रवाई करना आवश्यक होगा हम उसमें कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

सीआरएफ एक अग्रणी सुरक्षा बल है और उसने समय-समय पर बहुत कुर्बानियां दी हैं। जम्मू कश्मीर में शांति और सुरक्षा कायम रखने में इस बल के योगदान की जितनी सराहना की जाए वो कम है। आज कृतज्ञ भारत, जिन्होंने अपने प्राणों की शहादत दी है, उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है और कठिन घड़ी में उनके परिवारों के साथ खड़ा है। '

यहां देखें वीडियो-📹http://v.duta.us/_Fn7BQAA

आपको बता दें कि गुरुवार को केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के 2500 से अधिक कर्मी 78 वाहनों के काफिले में जा रहे थे। इनमें से अधिकतर अपनी छुट्टियां बिताने के बाद अपनी ड्यूटी पर लौट रहे थे। जम्मू कश्मीर राजमार्ग पर अवंतिपोरा इलाके में लाटूमोड पर इस काफिले पर अपराह्न करीब साढ़े तीन बजे घात लगाकर हमला किया गया। पुलिस ने आत्मघाती हमला करने वाले वाहन को चलाने वाले आतंकवादी की पहचान पुलवामा के काकापोरा के रहने वाले आदिल अहमद के तौर पर की है। उन्होंने बताया कि अहमद 2018 में जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था।

यहां देखें फोटो-http://v.duta.us/33IbuAAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬