[bhopal] - जीवनदानः धर्म मजहब को परे रखकर दी सद्भाव की मिसाल

  |   Bhopalnews

झांसी निवासी परवेज अहमद और भोपाल निवासी नादानी राजपूत किडनी की समस्या से जूझ रहे थे। लेकिन डोनर की किडनी मैच नहीं होने के कारण दोनों ही मरीज परेशानी से जूझ रहे थे। बंसल अस्पताल में आने के बाद यहां के चिकित्सकों ने इन्हें स्वैप ट्रांसप्लांट की सलाह दी और इसके लिए प्रयास शुरू हुए। इस पर शीघ्र ही दोनों परिवारों के बीच सहमति बन गई।

इसके बाद दोनों ही परिवारों ने एक दूसरे के मरीजों को किडनी डोनेट की। नादानी राजपूत को परवेज अहमद की पत्नी शर्मिल खान ने किडनी डोनेट की, तो परवेज अहमद को नदानी राजपूत के पति भगवान सिंह राजपूत ने किडनी डोनेट की। डॉक्टरों की टीम ने एकसाथ किए चार ऑपरेशन दो लोगों के किडनी ट्रांसप्लांट की इस जटिल प्रक्रिया को बंसल अस्पताल के डॉक्टरों ने बेहतर तरीके से निभाया। बंसल अस्पताल की विशेषज्ञ टीम को एक साथ चार ऑपरेशन करने पड़े। इस दौरान किडनी ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ. संतोष अग्रवाल, ट्रांसप्लांट नेफ्रोलॉजिस्ट विद्यानंद त्रिपाठी ने अपनी टीम के साथ इस ट्रांसप्लांट को बेहतर तरीके से अंजाम दिया। उनके सहयोग के लिए निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ. रितेश जैन, डॉ दीपा नवकर, डॉ लक्ष्मीकांत, डॉ. अभिनव सराफ के साथ ही बड़ी संख्या में नर्सिंग और ओटी विशेषज्ञ मौजूद थे। स्वैप ट्रांसप्लांट एक बेहतर विकल्प इस ऑपरेशन के बारे में जानकारी देते हुए चिकित्सकों ने पत्रकारों से चर्चा की। डॉ.़ विद्यानंद त्रिपाठी ने बताया कि आज हमारे देश में हर साल २ लाख लोगों को किडनी की जरुरत पड़ती है,...

फोटो - http://v.duta.us/AxKsVQEA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/c5JyagAA

📲 Get Bhopal News on Whatsapp 💬