[farrukhabad] - न्यायमूर्ति ने गंगा स्वच्छता की हकीकत देखी

  |   Farrukhabadnews

फर्रुखाबाद। एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) की मॉनीटरिंग कमेटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अरुण टंडन ने गुरुवार दोपहर पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस पहुंचकर अधिकारियों से गंगा स्वच्छता की जानकारी ली। इसके बाद शहर नालों, एसटीपी व बायो रेमिडिएशन प्लांटों का निरीक्षण कर कर्मचारियों से पानी की स्वच्छता के संबंध में गहनता से पूछताछ की। पानी के नमूने भरवाए। शाम को वह कन्नौज के लिए रवाना हो गए।

एनजीटी की मानीटरिंग कमेटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अरुण टंडन, समिति की सदस्य डा. अनीता राय के साथ लखनऊ से दोपहर 12:50 बजे फतेहगढ़ के पीडब्ल्यूडी गेस्टहाउस पहुंचे। वहां उन्होंने पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्र, जिलाधिकारी मोनिका रानी, केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड की टीम आदि अधिकारियों के साथ बंद कमरे में बैठक कर वार्ता की। गंगा में गिरने वाले शहर के नालों की जानकारी व प्रदूषण की स्थिति के बारे में पूछा। इस बीच काली नदी से भरकर आए पानी के नमूने की भी केमिकल डालकर जांच करवाई। इसके बाद न्यायमूर्ति अधिकारियों के साथ सीधे पुलिस लाइन के पीछे बने एसटीपी का जायजा लेने पहुंचे। वहां बने तीनों तालाबों को गहनता से देखा। उसमें पहुंचने वाले पानी की स्थिति के बारे में जलनिगम व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम से पूछताछ की। पीला पानी देख उन्होंने नमूना भरवाया। उन्होंने पानी की शुद्धता के लिए तालाब में कमल व सिंघाड़ा करवाने की सलाह दी। प्लांट की क्षमता की जानकारी लेकर बरसात में तालाबों की स्थिति के बारे में पूछा। उन्हें बताया गया अधिक बरसात होने पर तालाब ओवरफ्लो हो जाते हैं। इसके बाद वह धीमरपुरा स्थित टोकाघाट पहुंचे। वहां नाला सीधे गंगा में बहता मिला। न्यायमूर्ति ने वहां लगे बायोरेमिडिएशन प्लांट के कर्मचारी सुधीर तनवर से कौन से केमिकल इस्तेमाल करने व पानी की शुद्धता के बारे में पूछा तो 40 से 50 फीसद तक पानी शुद्ध होने की जानकारी दी गई। इस पर उन्होंने यह प्रक्रिया लगातार चालू रखने के निर्देश दिए। इसके बाद उन्होंने भैरवघाट, टोकाघाट नाले भी देखे। इसके बाद वह कन्नौज चले गए। इस दौरान गेस्ट हाउस में सीएमओ डा. अरुण कुमार उपाध्याय, सिटी मजिस्ट्रेट आरए चौहान, सीओ सिटी रामलखन सरोज वहां मौजूद थे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/QXj-WQAA

📲 Get Farrukhabad News on Whatsapp 💬