[hanumangarh] - होटल-मैरिज पैलेस में आग लग जाए तो जान बचा कर भागने के लिए आपातकालीन द्वार तक नहीं

  |   Hanumangarhnews

विवाहस्थल, शोरूम व निजी अस्पतालों की की स्थिति भयावह : एक ने भी नहीं ले रखी सुरक्षा संबंधी एनओसी

होटल-मैरिज पैलेस में आग लग जाए तो जान बचा कर भागने के लिए आपातकालीन द्वार तक नहीं

हनुमानगढ़. शहर के किसी होटल, मैरिज पैलेस, धर्मशाला, निजी अस्पताल व मॉल में आग लग जाए तो जान बचाकर भागना मुश्किल ही नहीं नमुमकिन है। किसी भी तरह घटना होने पर नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए होटल, धर्मशाला व मैरिज पैलेस में आपातकालीन द्वार तक नहीं है। हैरत की बात है कि करोड़ों रुपए की लागत से निर्माण हुए विवाह स्थल और होटल संचालकों ने सुरक्षा संबंधी एनओसी तक नहीं ली। हालात हैं कि नगर परिषद सुरक्षा संबंधि एनओसी देने के लिए प्रत्येक वर्ष एक रजिस्टर लगाया जाता है। लेकिन इसमें पूरे वर्ष तक एक भी अक्षर अंकित तक नहीं होता। संचालक सिर्फ निर्माण स्वीकृति लेकर इतिश्री कर लेते हैं। गंभीर बात यह है कि नगर परिषद अधिकारी सुरक्षा संबंधी एनओसी के लिए आवेदन नहीं करने के बावजूद निर्माण कार्यों को हरी झंडी दे देते हैं और निर्माण होने के पश्चात व्यवस्थाओं का जायजा तक नहीं लेते। उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव से पहले स्वायत्त शासन विभाग ने एक आदेश जारी कर शहर के सभी मैरिज पैलेस, होटल, धर्मशाला आदि में 25 बिन्दुओं की गाइडलाइन जारी कर सर्वे करने के आदेश दिए थे। चुनाव से पहले नगर परिषद के अधिकारियों ने टाउन व जंक्शन की दो कमेटियों का गठन कर खानापूर्ति कर ली। इसके पश्चात कार्रवाई करना ही भूल गए। गत दिनों में दिल्ली के होटल में आग लगने से 17 की मौत होने पर स्वायत्त शासन विभाग ने विवाह स्थल व होटलों में अग्निशमन संबंधी सूची मांगी तो नगर परिषद फिर से जाग उठी। आलम है कि नगर परिषद टीम की ओर से फिर से अब सर्वे किया जा रहा है। अभी तक जंक्शन क्षेत्र में करीब 29 स्थलों का निरीक्षण किया जा चुका है, जहां एक दो खामियां नहीं पूरी भरमार है। इन स्थलों में होटल, विवाह स्थल, निजी अस्पताल व बड़े शोरूम शामिल हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/i7U3sAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/4sfzjQAA

📲 Get Hanumangarh News on Whatsapp 💬