[katni] - रेस्क्यू कर चार बच्चों को बचाया, सुरक्षा में सामने आ रही बड़ी लापरवाही

  |   Katninews

कटनी. माता-पिता से बिछड़े..., जिनके माता-पिता नहीं हैं, सफर के दौरान छूट गए हैं या फिर उपेक्षा का दंश झेल रहे हैं ऐसे बच्चों को मुख्य धारा से जोडऩे के लिए चाइल्ड लाइन, बाल कल्याण समिति, किशोर न्याय बोर्ड, आश्रय गृह सहित अन्य योजनाओं में करोड़ों खर्च हो रहे हैं, लेकिन कटनी जिले में यह सब योजना दम तोड़ रही है। 6 फरवरी से जिले की बाल कल्याण समिति का कार्यकाल समाप्त हो गया है, लेकिन अबतक न तो समिति बनी और ना ही रेस्क्यू किए गए बच्चों की काउंसिलिंग कराने कोई पहल हुई। चाइल्ड लाइन के सामने पिछले कई दिनों से गंभीर समस्या है, लेकिन इस दिशा में न तो कलेक्टर केवीएस चौधरी कोई पहल कर पाए और ना ही मॉनीटरिंग करने वाला महिला बाल विकास विभाग। चाइल्ड लाइन द्वारा बुधवार को तीन बच्चे मुख्य रेलवे स्टेशन से रेस्क्यू किए हैं। एक बच्चे के पिता के पहुंचने पर हैंडोवर कर दिया गया था। दो बच्चे चाइल्ड लाइन के पास है। एक बच्चा गुरुवार को भी मुख्य रेलवे स्टेशन से रेस्क्यू किया है। इस बच्चे की भी अबतक न तो काउंसिलिंग हुई है और ना ही उनके रुकवाने के लिए जिला प्रशासन ने कोई पहल की। चाइल्ड लाइन की सूचना पर कलेक्टर भी अपने अधिकार क्षेत्र में न होने का बात कह पल्ला झाड़ लेते हैं। अब ऐसे में मासूम जाएं तो जाएं कहां।...

फोटो - http://v.duta.us/9Az2_gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/pzS2gAAA

📲 Get Katni News on Whatsapp 💬