[kondagaon] - छात्र सीख रहे बांस की झोपड़ी बनाने की कला, शोध करने आते हैं देश-विदेश से सैलानी

  |   Kondagaonnews

कोण्डागांव. आपको यह जानकर बेहद अजीब तो लगेगा, लेकिन यह सच है कि, महाराष्ट्र नागपुर के आर्किटेक्ट की पढ़ाई करने वाले छात्र-छात्राओं का एक दल इन दिनों कोण्डागांव में बांस से बनने वाली झोपड़ी के नियम कायदों को सिखने यहां पहुंचा हैं। जिसे स्थानीय बॉस व काष्ट शिल्प के कलाकार उन्हें झोपड़ी बनाने की कला सिखा रहे हैं। जिला मुख्यालय स्थित बांधा तालाब के निकट यह झोपड़ी बनाई जा रही हैं। जिसमें बॉस व लकड़ी के उपयोग से यह झोपड़ी का निर्माण किया जा रहा हैं।

शिल्पसिटी के नाम से प्रसिद्धि पा चुके जिला मुख्यालय को लोग कलाकारों की कलाकृति से भी पहचानते है, और इन्हीं कलाकृतियों के निर्माण की प्रक्रिया को समझने देश-विदेश से सैलानियों के साथ ही शोधार्थी यहां आते तो है, लेकिन यहां अब पारंपरिक तौर-तरीकों से बनाए जाने वाले झोपड़ी निर्माण की प्रक्रिया को समझने के लिए भी अब बड़े शहरों के लोग यहां पहुुचने लगे हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/47z9MAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/4yEtTgAA

📲 Get Kondagaonnews on Whatsapp 💬