[mandi] - छेश्चू मेले मेें छम नृत्य ने बांधा समा

  |   Mandinews

रिवालसर (मंडी)। छेश्चू मेले के तीसरे दिन प्रसिद्ध छम नृत्य ने खूब समा बांधा। पीड़ित राजा को श्रापमुक्ति की कथा का चित्रण करता यह नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा। रिवालसर में राज्य स्तरीय चार दिवसीय छेश्चू मेले के तीसरे दिन यह प्रसिद्ध छम नृत्य पद्मसंभव निग्गमपा मंदिर प्रांगण में हुआ। इसके बाद बौद्ध मठ निग्गमपा कमेटी ने हजारों बौद्ध धर्म के श्रद्धालुओं के लिए भंडारे का आयोजन किया। मान्यता है कि मंडी की राजकुमारी पद्मसंभव की शिष्य बनी थी। अफवाहों से मंडी के राजा ने रिपोंछे को अपमानित किया। इसके चलते रिपोंछे ने राजा को श्रापित किया और श्रापित राजा रिपोंछे से तपोभूमि रिवालसर में माफी मांगने पहुंचे। गुरु ने पीड़ित को ठीक किया था। इसी कथा को लेकर यहां सुप्रसिद्ध छम नृत्य का आयोजन किया गया है। साथ ही मेला कमेटी ने लोगों के मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया। 15 फरवरी को ध्वजारोहण रस्म पूर्ण होगी। एसडीएम बल्ह आशीष शर्मा राज्य स्तरीय मेले का समापन करेंगे। इस मौके पर नगर पंचायत अध्यक्ष लाभ सिंह, पार्षदों और ग्राम पंचायत प्रधान संजय कुमार आदि क्षेत्र के गण्यमान्य लोगों ने भाग लिया।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/epHCBwAA

📲 Get Mandi News on Whatsapp 💬