[rajsamand] - इस बेटे की कुर्बानी पर गर्व कर रहा मेवाड़

  |   Rajsamandnews

जितेन्द्र पालीवाल @ राजसमंद. जम्मू-कश्मीर के पुलमावां में हुए आतंकी हमले में मेवाड़ की धरती का एक बेटा भी शहीद हुआ है। उसकी शहादत पर पूरा गांव गम और गुस्से में तो है ही, इस बलिदान पर गांव वालों की छाती भी गर्व से फूली हुई है। शुक्रवार की सुबह मेवाड़ की फिजाओं में आक्रोश है, बदले का इरादा और नारायणलाल की शख्सियत के किस्से भी तैर रहे हैं। गांव का बच्चा-बूढ़ा लहू में रंगे अपने बेटे को आखिरी बार देखने को बेताब है। लोग उनकी अगवानी को एक शहादत का जश्न का रूप देने की तैयारी में जुट गए हैं। फूलों की बारिश की जाएगी, बैण्ड-बाजों पर देशभक्ति धुनें रगों में जोश भरेगी। कुछ ऐसा ही माहौल इस वक्त है राजसमंद जिले के बिनोल गांव में, जहां के नारायणलाल गुर्जर (38) पुलमावां आतंकी हमले में शहीद हो गए। ज्योंही कल बीती शाम को इस वारदात की सूचना गांव तक पहुंची, घर-परिवार के लोगों और ग्रामीणों में अजीब सी दहशत फैल गई। लापता जवानों की सूची में नारायणलाल का नाम आते ही उनके दिलों की धड़कनें और बढ़ गईं। देर रात तक आधिकारिक तौर पर परिवार को कोई सूचना नहीं मिली। रातभर घर के लोग, रिश्तेदार सो नहीं सके। सुबह बुरी खबर लेकर आई। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) से फोन आया कि हैड कांस्टेबल नारायण देश के लिए शहादत की बलिवेदी चढ़ चुके हैं। किसी को यकीन नहीं हुआ कि उनके गांव का लाडला अब नहीं है। नारायण के घर के बाहर मजमा लग गया। इनमें खासकर युवा बड़ी तादाद में थे, जो उन्हें अपना आदर्श मानते थे। देशसेवा में जाने की उनकी प्रेरणा को याद करके आंखें भर आईं।...

फोटो - http://v.duta.us/ioW5KwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/VLkMdAAA

📲 Get Rajsamand News on Whatsapp 💬