[sagar] - दृढ़ श्रद्धान के साथ वस्तुस्थिति को स्वीकार कर लेना चाहिए : आचार्यश्री

  |   Sagarnews

सागर. आप लोगों को कुछ बातों के ऊपर विश्वास नहीं होता है अथवा समझ में नहीं आता है। कार्य देखकर कहने लगते हो कि देव चमत्कार है या कोई जादू टोना है या फिर शंका होने लगती है हमें वस्तुस्थिति को स्वीकार करना चाहिए। उसे दृढ़ श्रद्धान करके अपना लेना चाहिए वस्तुस्थिति की जानकारी होने पर लोगों का भ्रम दूर हो जाता है। यह बात भाग्योदय तीर्थ में विराजमान आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ने एक धर्म सभा के दौरान गुरवार को कहीं। आचार्य श्री ने कहा की दो महिलाएं थी। एक कर्म सिद्धांत पर भरोसा करती थी तो दूसरी महिला थोड़ा यूं ही पर विश्वास करती थी। एक दिन महिला ने देखा एक राजा पहले हाथी पर फिर घोड़े पर सवार होता है फिर पालकी पर सवार होता है और जब वह पालकी से उतरता है तो दो चार लोग उसके पांव दबाने लग जाते हैं तो दूसरी सखी पहली से कहती है यह क्या नाटक हो रहा है पांव तो उनके दबाने चाहिए जिन्होंने पालकी उठाई है यह कब थके, यह चले ही नहीं कहां से थक गए होंगे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/NfkRuAAA

📲 Get Sagar News on Whatsapp 💬