[sagar] - हर बेसहारा का सहारा बनते हैं ये दिव्यांग शिक्षक

  |   Sagarnews

गौरझामर. शासकीय उच्च माध्यमिक शाला गौरझामर में सहायक शिक्षक के पद पर पदस्थ विनय करण ( 53) ने दिव्यांग होने के बाद भी जन सेवा के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाई हुई है। शिक्षक विनय करण ने बताया की वे 20 सालों से जनसेवा का काम कर रहे हैं। गरीब एवं जरूरतमंदों के लिए 1 घंटे फ्री कोचिंग लगातार पढ़ा रहे हैं। लोगों ने बताया कि वे बीमार लोगों को अपनी गाड़ी में खुद ले जाकर इलाज करवाने में वे कभी पीछे नहीं रहे। कछिया जैतपुर के सालकराम रैकवार ने बताया कि एक बार बे बेहोश हो गए थे, सड़क पर पड़े थे। मुझे शिक्षक विनय करण ने लेजाकर उचित इलाज करवाया। फूलबाग के रज्जू ठाकुर ने बताया कि मुझे कृषि कार्य करते समय रात्रि में मुझे सांप ने काट लिए था और मुझे जब 108 की सुविधा ना मिली तब विनय करण अपनी गाड़ी से मुझे सागर ले जाकर भर्ती कराया। ध्रुव यादव निवासी * मोहल्ला ने बताया कि रात्रि में करीब 11 बजे जब वह अपने घर जा रहा था रास्ते में गिरने के बाद जब शिक्षक को पता चला तो तत्काल मदद करने...

फोटो - http://v.duta.us/7_jfCQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/GICb4QAA

📲 Get Sagar News on Whatsapp 💬