[varanasi] - करोड़ों रुपये खर्च, फिर भी गंगा साफ नहीं

  |   Varanasinews

वाराणसी। गंगा की अविरलता, निर्मलता पर सरकार करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है। गंगा का पानी नहाने लायक नहीं है और तो और इसमें स्नान से खुजली सहित अन्य संक्रामक बीमारियां हो रहीं हैं। आईआईटी के सिविल इंजीनियरिंग विभाग की ओर से आयोजित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में भाग लेने बीएचयू आए जलपुरुष राजेंद्र सिंह ने कहा कि गंगा की दुर्दशा के लिए सरकार जिम्मेदार है।

बीएचयू के स्वतंत्रता भवन में उन्होंने कहा कि गंगा को यदि ठीक करना है तो पहले इसे गंदगी मुक्त करना होगा। गंगा की दशा अस्पताल के आईसीयू में भर्ती मरीज जैसी है, जिसे बेहतर इलाज की तत्काल जरूरत है, न कि थोड़ी बहुत जांच कर अस्पताल से छुट्टी दे दी जाए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि गंगा निर्मलता के लिए नमामि गंगे सहित जितनी भी योजनाएं सरकार की ओर से चलाई जा रही हैं, उसमें सिर्फ पैसे की बंदरबांट हो रही है, किसी का ध्यान गंगा की दुर्दशा पर नहीं जा रहा है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/jVopRgAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬