[yamuna-nagar] - खैर की तस्करी का जाल

  |   Yamuna-Nagarnews

खैर की तस्करी: यमुनानगर से दिल्ली होते हुए नेपाल तक फैला है जाल

यमुनानगर के जंगल खैर तस्करों के निशाने पर, पिछले तीन साल में कट चुकी हैं करोड़ों की लकड़ियां

तस्करी पर वन विभाग और पुलिस के अधिकारी नहीं लगा पा रहे अंकुश

यमुनानगर/छछरौली

जिले की वन संपदा खतरे में है। एक तरफ अवैध खनन की वजह से जंगल कम हो रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ वन माफिया धड़ल्ले से बेशकीमती खैर के पेड़ काट रहे हैं। आलम ये है कि खैर के सैकड़ों साल पुराने पेड़ काटने के लगातार मामले सामने आ रहे हैं। वन माफिया द्वारा प्लानिंग के साथ घने जंगल के अंदर जाकर पेड़ काट लिए जाते हैं। जानकारों का कहना है कि पिछले तीन साल के दौरान 10 से 20 करोड़ रुपये की खैर की लकड़ी चोरी हो चुकी है। अगर यही हाल रहा तो कुछ ही समय में यमुनानगर के जंगल खैरमुक्त हो जाएंगे। जबकि वन विभाग और पुलिस अधिकारी एफआईआर दर्ज करने तक की कागजी कार्रवाई तक सीमित हैं और दुर्लभ खैर के पेड़ों को बचाने के लिए कोई प्लानिंग नहीं है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/kMTblQAA

📲 Get Yamuna Nagar News on Whatsapp 💬