[bikaner] - राजस्थान पत्रिका एक्सपर्ट व्यू- आभासी आंकड़ों से ही बिगड़ता है बजट

  |   Bikanernews

राजस्थान पत्रिका एक्सपर्ट व्यू सुधीश शर्मा सीए

नगर निगम बजट में प्रस्तावित आय एवं व्यय के विवेचन से ज्ञात होता है कि बजट वास्तविकता से परे चलता है। बजट बनाते समय कुछ आय जो न कभी हुई न होने वाली है को बजट प्रस्तावों में शामिल कर लिया जाता है। साथ ही कुछ मदों में आय को सामान्य वृद्धि से बहुत ज्यादा बढ़ाकर दर्शाया जाता है। जो संभव तो नहीं होती दिखती लेकिन बजट का आंकड़ा बड़ा करने के लिए डाल दी जाती है। व्यय में कुछ मदों में हास्यापद प्रस्ताव भी होते है। जैसे अग्निशमन यंत्र एक लाख के प्रस्तावित है। अब यह भी सोचना चाहिए कि इस राशि से क्या यंत्र खरीदे जा सकेंगे। कुछ खर्च एेसे है जो कभी कभी हुए नहीं। मसलन एक करोड रुपए रख रखाव पर खर्च का प्रस्ताव बजट में शामिल होता रहा है।...

फोटो - http://v.duta.us/0nGK0QAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/9-mXkgAA

📲 Get Bikaner News on Whatsapp 💬