[gwalior] - अब हेल्थ समेत कई क्षेत्रों में हो रहा बायोइन्फोटेक का उपयोग

  |   Gwaliornews

ग्वालियर. बायो इन्फॉर्मेटिक्स के अंतर्गत बायोटिक सिस्टम में सूचनात्मक प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। मूल रूप से जैव सूचना विज्ञान सूचना प्रौद्योगिकी, कंप्यूटर विज्ञान और जीव विज्ञान के क्षेत्र में जानकारी से संबंधित है। यह जानकारी एमिटी यूनिवर्सिटी जयपुर के इंस्टीट्यूट ऑफ बायोटेक्नालजी के असिस्टेंट प्रो. डॉ. शैलेश कुमार ने स्टूडेंट्स को दी। जीवाजी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ स्टडीज इन बायोकैमिस्ट्री व बायो इंफ ॉर्मेटिक सेंटर द्वारा तीन दिवसीय हैंड्स ऑन वर्कशॉप का समापन गुरुवार को किया गया।

जैव सूचना विज्ञान का उपयोग कई क्षेत्रों में

प्रो. शैलेष ने बताया कि जीव विज्ञान लैब में अनुसंधान करता है और डीएनए व प्रोटीन अनुक्रम, जीन, अभिव्यक्ति आदि एकत्र करता है। कंप्यूटर वैज्ञानिक डेटा को स्टोर और विश्लेषण करने के लिए एल्गोरिदम, उपकरण, सॉफ्टवेयर विकसित करता हैं। बायो इंफॉर्मेटिक्स विभिन्न कार्यक्रमों और उपकरणों के साथ आणविक डेटा का विश्लेषण करके जैविक प्रश्नों का अध्ययन करते हैं। आज जैव सूचना विज्ञान का उपयोग बड़ी संख्या में कई क्षेत्रों में किया जाता है, जिसमें माइक्रोबियल जीनोम अनुप्रयोग, जैव प्रौद्योगिकी, अपशिष्ट सफ ाई, जीन थैली आदि शामिल थे। उन्होंने बताया कि चिकित्सा क्षेत्र में माइक्रोबियल जीनोम अनुप्रयोग और अन्य क्षेत्र में जैव सूचना विज्ञान के अनुप्रयोगों से महत्वपूर्ण और संक्षिप्त जानकारी प्राप्त करने का प्रयास किया गया है।...

फोटो - http://v.duta.us/yso7nQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/0XhTogAA

📲 Get Gwalior News on Whatsapp 💬