[indore] - गोरैया के लिए अपने दरवाजे खोलने वाले परिवारों से जाना इन्हें बुलाने का सही तरीका

  |   Indorenews

इंदौर. घर में गोरैया का आना लगातार रहता है। रोज दाना-पानी मिलने लगा तो फिर घरौंदा भी बना लिया। तिनका-तिनका जोड़ कर अपना छोटा-सा संसार बसा लिया। चहचहाते और नोक-झोंक करते चिडिय़ा के बच्चों की आवाज से सुबह और सुहानी हो जाती, लेकिन शहर से अब गोरैया गायब हो रही हैं। हमारे घर-आंगन, बगीचे, रोशनदान, खपरैलों के कोनों को वे अचानक छोड़ गई हैं। बुधवार को विश्व गोरैया दिवस है। ऐसे में हम शहर के कुछ ऐसे परिवारों की कहानी लाए हैं, जिनके घरों में अब भी ये पक्षी आबाद हैं। इनसे जाना कि अगर गोरैया को घर बुलाना है तो क्या सुविधा जुटानी होती है और क्या सावधानियां बरतनी होंगी।...

फोटो - http://v.duta.us/eyMlPQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/dyAx-gAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬