[bilaspur] - पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के समर्थन में गए थे जेल, अब राजनीति हुई स्वार्थी नेताओं का जमघट

  |   Bilaspur-Chattisgarhnews

बिलासपुर. सन् 1972 से मेरा सक्रिय जुड़ाव कांग्रेस पार्टी से हो गया था तब लोकसभा के चुनाव में सायकल से घूम-घूम कर चुनाव प्रचार करना एवं चुनाव सामग्री मल्हार सहित आस-पास के गंावों में पहुंचाना होता था। शाम होते ही साइकिल में लाउडस्पीकर एवं माइक लगाकर 20-25 साथियों के साथ गली-गली घूमते हुए कांग्रेस का चुनाव प्रचार करते तब कांग्रेस का चुनाव-चिन्ह गाय-बछड़ा हुआ करता था। प्रत्याशी कही भी हो, कौन है? किसी ने कोई बात नही पूछी कांग्रेस पार्टी ही सब कुछ था, जिसे जो जवाबदारी दी जाती बड़े ही निष्ठा के साथ पूरा करता।

इमरजेंसी के बाद सन् 1977 में चुनाव हुए थे जिसमें स्वयं इंदिरा गांधी चुनाव हार गई थी और जनता पार्टी की सरकार दिल्ली सहित भोपाल म.प्र. में बन गई थी परन्तु बिलासपुर एवं मस्तूरी विधानसभा क्षेत्रों से क्रमश: स्व. बी.आर. यादव एवं स्व. बंशीलाल घृतलहरे चुनाव जीत गये। दिसम्बर 1978 में जनता पार्टी की शासन ने इंदिरा गांधी को जेल में डाल दिया। जिसके विरोध में देश भर में जेल भरो आंदोलन शुरू हो गया और मस्तूरी क्षेत्र से भी कर्मठ कांग्रेसी जेल गये। उनमें एक मैं भी था। मस्तूरी क्षेत्र में उतार-चढ़ाव होता रहा और अब तमाम कांग्रेसियों में पहले जैसी निष्ठा नहीं दिखती। आज जब देखता हूं तो दु:ख होता है। अन्य दलों की यही स्थिति है और सेवा व समर्पण का भाव खत्म हो गया है।

फोटो - http://v.duta.us/ZSFOTAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/OpwypgAA

📲 Get Bilaspur-Chattisgarhnews on Whatsapp 💬