[sonebhadra] - अब ग्राम प्रधानों को टैंकरों से पेयजलापूर्ति का देना होगा हिसाब 19-05-32

  |   Sonebhadranews

सोनभद्र। जिले में तेजी से गिरते भूगर्भ जलस्तर के चलते जंगली एवं पहाड़ी इलाकों के हैंडपंप पानी छोड़ने लगे हैं। इससे पेयजल संकट उत्पन्न होने लगा है। ग्रामीणों को पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए डीपीआरओ ने प्रधानों को टैंकर क्रय कर आपूर्ति कराने का निर्देश दिया है। प्रधानों को प्रतिदिन कितने टैंकर आपूर्ति किस वार्ड में हुई पर रिपोर्ट तैयार कर सेक्रेटरी को देनी होगी। तब जाकर भुगतान होगा।

राबटर्सगंज, दुद्धी और घोरावल तहसील क्षेत्र की अधिकांश आबादी पहाड़ी और पठारी इलाकों में बसी हुई है। इस कारण प्रतिवर्ष अप्रैल माह आते-आते पेयजल संकट मुंह बाए खड़ा हो जाता है। इस बार स्थिति कुछ ज्यादा ही खराब दिखाई दे रही है। स्थिति यह है कि राबटर्सगंज, घोरावल, चतरा, नगवां इलाके के साथ ही चोपन ब्लॉक के रेणुकापार और कोन अंचल, बभनी, दुद्धी, म्योरपुर परिक्षेत्र के साथ ही ऊर्जांचल के भाठ क्षेत्र में बूंद-बूंद पानी के लिए संकट की स्थिति उत्पन्न होने लगी है। वर्तमान में उरमौरा, लोढ़ी, कमोजी, गोरारी, पुसौली, बढ़ौली, बसुहारी, पोखरिया, चननी, जुगैल, कोटा, रामपुर बरकोनिया, बेलछ, कनछ, चाची, सरईगढ़, माची समेत अन्य गांवों में लगे हैंडपंपों में से अधिकांश ने जवाब दे दिया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/-D54hAAA

📲 Get Sonebhadra News on Whatsapp 💬