[kullu] - पूरी नहीं हुई सैंज बाजार को डेंजर जोन घोषित करने की मांग

  |   Kullunews

मुद्दा

सिउंड में बिजली परियोजना का डैम बनने से बढ़ा खतरा

नदी किनारे बसे बाजार के साथ आसपास के क्षेत्रवासी असुरक्षित, चुनाव में उठेगा मुद्दा

लारजी (कुल्लू)। पार्वती परियोजना के सिउंड डैम से सैंज बाजार के लोग असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। पांच साल पहले बने इस डैम में दो साल से पानी भरकर बिजली का उत्पादन शुरू किया गया है। स्थानीय जनता सहित व्यापार मंडल ने सैंज बाजार और आसपास के क्षेत्र को डेंजर जोन घोषित करने के लिए लंबे समय से आवाज उठ रही है। लोकसभा चुनावों में यह मुद्दा फिर चर्चा में आ गया है।

व्यापार मंडल ने दो टूक कहा है कि बाजार की सुरक्षा करने वाले प्रत्याशी के हक में ही मतदान होगा। स्थानीय लोग कहते हैे कि बाजार नदी के करीब बसा है और सियुंड में डैम बनने से उन्हें जानमाल का नुकसान होने का खतरा महसूस हो रहा है। डैम में सैंज नदी के अलावा गड़सा और मणिकर्ण की नदियों का पानी भूमिगत टनल से सिउंड डैम तक लाए जाने का काम तेजी से चल रहा है। ऐसे में संकरी घाटी में नदी किनारे बसे लोग परेशानी में है। व्यापार मंडल सैंज के प्रधान सुरेश कुमार ने कहा कि सैंज बाजार में करीब 250 दुकानों के अलावा सैकड़ों रिहायशी मकान हैं, जो सभी नदी किनारे बसे हुए है। बरसात के दिनों में या टनलों के भीतर तकनीकी खराबी आने पर डैम से पानी छोड़ने की नौबत आ सकती है। ऐसी स्थिति में बाजार को भारी नुकसान हो सकता है। सियुंड में 800 मेगावाट की क्षमता वाली पार्वती चरण तीन परियोजना के लिए डैम बनाया गया है। डैम से नदी का बहाव आठ किमी लंबी भूमिगत टनल से डायवर्ट कर लारजी पावर हाउस पहुंचाया गया है। फिलहाल लारजी में चार में से दो ट्रबाईन घुमाई जा रही है। दो ट्रबाईनों के लिए मणिकर्ण और गड़सा नदी के पानी को भूमिगत टनलों से सिंउड तक पहुंचाया जाना है। इससे पहले इन नदियों के पानी से 520 मेगावाट की पार्वती चरण दो की चार ट्रबाईन चालू की जानी है। व्यापार मंडल के मोहर सिंह, मनोज राणा, मीरा देवी, जीत राम, गोविंद ठाकुर, लाल दास का कहना है कि तीन नदियों का पानी इकट्ठा होने से बाजार के लिए खतरे की संभावना बन सकती है। कहा कि सैंज बाजार को डेंजर जोन में शामिल किए जाने की मांग काफी समय से चल रही है। चुनावों में नेताओं के आश्वासन खोखले साबित हो रहे हैं। एनएचपीसी के महाप्रबंधक सीबी सिंह ने कहा कि डैम से खतरे की कोई संभावना नहीं है। सारी स्थिति को देखने के बाद ही डैम का निर्माण किया गया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/dgl28gAA

📲 Get Kullu News on Whatsapp 💬