[banswara] - बांसवाड़ा : यहां पिता की अंत्येष्टि करते ही पहुंचे मतदान केंद्र, लोकतंत्र के प्रति ऐसा जुनून लाया राजस्थान में दूसरे नंबर पर

  |   Banswaranews

बांसवाड़ा/परतापुर. प्रदेश के तेरह लोकसभा क्षेत्रों में सोमवार को हुए चुनाव में मतदान करने में बांसवाड़ा-डूंगरपुर इलाका दूसरे नंबर पर आया। मतदाताओं की यह उपलब्धि जबर्दस्त गर्मी, दिव्यांगता और ढलती उम्र जैसी विवशताओं से पार पाने से ही नहीं, जज्बातों को काबू रखकर वागड़वासियों द्वारा कत्र्तव्यनिष्ठता को तरजीह देने से भी मिली है। इसका उदाहरण गढ़ी क्षेत्र में दो भाइयों के मतदान से सामने आया, जबकि पितृशोक के बावजूद उन्होंने अंत्येष्टि कर अगला कदम मतदान की जिम्मेदारी का निर्वाह करने का उठाया।

शोक संतप्त परिवार मोटी बस्सी गांव का है। गांव में 85 वर्षीय नाथूराम पुत्र भूराजी उपाध्याय की रविवार को मौत हो गई थी। इत्तफाक रहा कि दूसरा दिन मतदान का रहा। अमूमन घर में शोक पर कोई जाजम नहीं छोड़ता, लेकिन चूंकि बात लोकतंत्र की थी, लिहाजा उपाध्याय के बेटे भरत और प्रकाश सोमवार सुबह अंतिम संस्कार करके लौटते ही सीधे अपने मतदान केंद्र पहुंचे और लोकतंत्र के महायज्ञ में अपनी आहुतियां दीं। इनके जज्बे को देखकर हर कोई कायल हो गया। इस बारे में चर्चा पर उपाध्याय बंधुओं ने मतदान को अधिकार के साथ अपना दायित्व बताया और कहा कि इसीलिए उन्होंने वोट को प्राथमिकता दी। गौरतलब है कि निर्वाचन आयोग, राजस्थान के आंकड़ों के अनुसार शाम पांच बजे तक बांसवाड़ा-डूंगरपुर लोकसभा क्षेत्र का वोटिंग प्रतिशत 66.41 फीसदी रहा, जो कि चित्तौडगढ़़ के 66.94 फीसदी से थोड़ा ही कम है। बाकी 11 लोकसभा क्षेत्र मतदान प्रतिशत में पिछड़ गए।

फोटो - http://v.duta.us/CKNv_AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/_egKbwAA

📲 Get Banswara News on Whatsapp 💬