[haridwar] - वर्ल्ड हर्बल एनसाईक्लोपीडिया में चयनित हुए 72 हजार पौधे

  |   Haridwarnews

ब्यूरो/अमर उजाला, हरिद्वार। पतंजलि योगपीठ की अनुसंधानशाला में तैयार किए जा रहे वर्ल्ड हर्बल एनसाईक्लोपीडिया का कार्य तेज गति से बढ़ रहा है। भारत सहित दुनिया के 72 हजार पौधों पर अब तक काम पूरा हो चुका है। दुनिया की जड़ी बूटियों का एक स्थान पर लेखन पहली बार पतंजलि में किया जा रहा है।

पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि आधी दुनिया को यह भी नहीं पता था कि जड़ी बूटियां भी औषधीय गुण रखती हैं। दो वर्ष पहले स्वामी रामदेव की पतंजलि योगपीठ में अपनी प्रयोगशाला में जड़ी बूटियों के औषधीय गुण पर कार्य शुरू किया था। अमेरिका, यूरोप और एशिया के कई देशों की जड़ी बूटियों का संकलन कराया गया। अब तक 72 हजार जड़ी बूटियों का पूरा इतिहास औषधीय गुणों के साथ दर्ज हो चुका है। पुराने ग्रंथों में वर्णित जड़ी बूटियों का संग्रह कर अनुसंधानशाला में गहन प्रयोग किए जा रहे हैं। आचार्य ने बताया कि उन्होंने खुद हिमालय के क्षेत्रों में जाकर संजीवनी बूटी के चार पौधों का संग्रह किया था। इन पौधों को मिलकर एक संजीवनी बूटी बनती है। इसी का प्रयोग राम-रावण युद्ध में लक्ष्मण की मूर्छा दूर करने के लिए किया गया था।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qJEzAQAA

📲 Get Haridwar News on Whatsapp 💬