[janjgir-champa] - न ही रेलवे स्टेशन में और न ही बैंक में है रैंप

  |   Janjgir-Champanews

जांजगीर-चांपा. जिले के रेलवे स्टेशन व बैंकों में दिव्यांगो के लिए रैंप की व्यवस्था नहीं की गई है। जबकि यह नियम में है कि सभी बैंक व रेलवे स्टेशन रैंप अनिवार्य रूप से होना चाहिए। लेकिन इसका पालन न तो बैंक करवा रहा है न ही रेलवे के अधिकारी कर रहे है। जिससे दिव्यांगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

जिला मुख्यालय जांजगीर में संचालित सभी बैंकों की शाखाओं में रिजर्व बैंक व शासन से जारी निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। शहर के किसी भी बैंक व जिला मुख्यालय में रैंप नहीं बनवाया गया है, इस वजह से नि:शक्तों को बैंकिंग सेवा व स्टेशन में यात्रा करने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना प ड़ रहा है। शहर में राष्ट्रीयकृत व निजी बैंकों की आधा दर्जन शाखाएं संचालित है। इन बैंको में नि:शक्तजनों के लिए कोई खास व्यवस्था नहीं है। स्टेशन रोड में संचालित पंजाब नेशनल बैंक व भारतीय स्टेट बैंक, अकलतरा चौक में संचालित बैंक आफ बड़ौदा व नैला रोड में संचालित भारतीय स्टेट बैंक की दूसरी शाखा ऊपरी हिस्सों में संचालित हैं, जहां पहुंचने के लिए सीढ़ी का उपयोग करना पड़ता है। सीढ़ी में चढऩा-उतरना नि:शक्तजनों के लिए परेशानी भरा होता है। सीढ़ी चढऩे-उतरने में हो रही परेशानी को ध्यान में रखते हुए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा सभी बैंकों के मुख्य द्वार पर रैंप बनवाने के निर्देश जारी किए हैं, लेकिन आरबीआई के इस निर्देश का शहर के किसी बैंक में पालन नहीं हो रहा है। इसी तरह रेलवे स्टेशन जांजगीर-नैला में प्लेटफार्म तक पहुंचने के लिए रैंप तो है। लेकिन प्लेटफार्म नंबर १ से २,३ व ४ में जाने के लिए रैंप नहीं बनाया गया है। जबकि यह माडल स्टेशन का दर्जा प्राप्त स्टेशन है। बैंको में दृष्टिबाधित लोगों के लिए ब्रैल पैडयुक्त बोलने वाले एटीएम लगाने के निर्देश भी आरबीआई ने दिए है, इसके बावजूद शहर में संचालित सभी बैंकों की शाखाओं में रिजर्व बैंक आफ इंडिया की इस गाइड लाईन की अनदेखी की जा रही है। लिहाजा, दृष्टि बाधित व अस्थिबाधितों को बैंक व रेलवे स्टेशन में किसी को साथ लेकर आने के लिए मजबूर होना पड़ता है।...

फोटो - http://v.duta.us/6LItugAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/_VarlAAA

📲 Get Janjgir-champanews on Whatsapp 💬