[janjgir-champa] - हर साल गिरता जा रहा वॉटर लेबल वजह बरसाती पानी सहेजने कोई सिस्टम नहीं

  |   Janjgir-Champanews

जांजगीर-चांपा. जिला मुख्यालय जांजगीर में हर साल वाटर लेबल नीचे जा रहा है। क्योंकि यहां बरसाती पानी को सहेजने कोई सिस्टम ही नहीं है। वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम खुद से बनवाने कोई तैयार नहीं और जिम्मेदार अफसर इसे बनवा पाने में नाकाम है।

शहर की पुरानी बसाहट की बात हम छोड़ भी दे तो भी पिछले पांच-छह सालों में ही नगरपालिका द्वारा शहर में भवन निर्माण के लिए जिन्हें एनओसी जारी की गई है, उन मकानों में भी वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाया गया है या नहीं इसकी भी जानकारी पालिका में पास नहीं है। जमीनी हकीकत तो यह है कि ऐसा कोई रिकार्ड भी दफ्तर में मौजूद नहीं है कि जिला मुख्यालय में कितने भवनों में यह सिस्टम बना है। निजी भवनों की बात छोड़ दे तो सरकारी भवनों में भी इस नियमों की धज्जियां उड़ रही है। शहर के अधिकांश सरकारी भवनों में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बना ही नहीं है और जहां बनाया गया था वे भी अब खराब हो चुके हैं। जिला अस्पताल, कलेक्टोरेट, डीईओ आफिस, नगरपालिका भवन में बने वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम खराब होकर पड़े हैं। नपा के अफसर कभी-कभार नोटिस बस जारी कर देते हैं। इसके आगे कार्रवाई नहीं बढ़ती। शासन ने ग्रामीण और नगरीय निकाय क्षेत्र के सभी पक्के मकानों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना अनिवार्य किया है। इसके लिए आवश्यक आवश्यक गाइड लाइन तैयार की है। इसके तहत नए भवनों का पंजीयन उसी स्थिति में किया जाना है जब उसमें पानी को सहेजने रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगा हो, मगर लोगों में जागरूकता का अभाव और प्रशासन के लचीले रवैये के कारण यह योजना फाइलों में दबी है।...

फोटो - http://v.duta.us/VA-MEwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/TGVoFgAA

📲 Get Janjgir-champanews on Whatsapp 💬