[jhalawar] - सरकारी सुस्ती किसानों पर भारी

  |   Jhalawarnews

झालरापाटन. जिले के प्रमुख व्यवसायिक कस्बे की हरिश्चंद्र कृषि उपजमंडी कृषि जिंसों की भारी आवक के चलते अब छोटी पडऩे लगी है। इस कारण सीजन में बार बार मंडी को बंद करना पड़ रहा है, इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। दूर-दूर से आने वाले किसानों को जिंस बेचने के लिए दो तीन दिन का इंतजार करना पड़ रहा, इससे किसानों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ रहा है।

सरकारी अधिकारियों की उदासीनता के कारण मंडी के विस्तार व फल मंडी के लिए अलग से जमीन आवंटन की योजना करीब 1 वर्ष से फाइलों में दबी हैं। हर बार सीजन में मंडी के विस्तार की मांग उठती है, लेकिन अधिकारी विस्तार पर कोई ध्यान नहीं देते। कई दशक पहले नई सब्जीमंडी में स्थित गाड़ी अड्डा से कृषिमंडी भवानीमंडी मार्ग पर सरकार की और से आवंटित भूमि पर स्थानांतरित की थी, उस समय के अनुरूप मंडी का यह क्षेत्रफल पर्याप्त था, जिससेसरकार ने मंडी के अतिरिक्त भूभाग पर इसी से सटी जमीन पर फलमंडी विकसित कर दी, लेकिन आज की आवश्यकता के अनुसार यहां स्थानाभाव होने से सभी को परेशानी आने लगी है। इस परेशानी को देखते हुए मंडी प्रशासन ने जिला प्रशासन के माध्यम से राज्य सरकार को फलमंडी अलग से विकसित करने के लिए भूमि आवंटन का प्रस्ताव भेजा था। राज्य सरकार ने इस प्रस्ताव पर सहमति जताते हुए जिला प्रशासन को इस कार्य के लिए उपयुक्त भूमि आवंटन करने के निर्देश दिए थे। इस पर जिला प्रशासन ने सुनेल मार्ग पर गंाव श्योपुर के यहां राजस्व की 16 बीघा भूमि इसके लिए आवंटन करने पर सहमति जारी कर दी थी।...

फोटो - http://v.duta.us/MeQPBAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/5KTtqQAA

📲 Get Jhalawar News on Whatsapp 💬