[kullu] - रिवर राफ्टिंग पर शिकंजा कसने की तैयारी में पर्यटन विभाग

  |   Kullunews

रिवर राफ्टिंग साइटों का होगा जल्द निरीक्षण

ब्यास में अवैध रूपस से चल रहे रिवर राफ्टिंग के धंधे पर कसेंगे शिकंजा

झीड़ी से लेकर रायसन तक राफ्टों का निरीक्षण करेगी समिति

मई महीने में देगी दबिश, प्रशिक्षित गाइडों की भी होगी जांच

कुल्लू। ब्यास नदी में मनमाने तरीके से हो रही राफ्टिंग पर पर्यटन विभाग शिंकजा कसने की तैयारी में है। अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली के निदेशक कर्नल नीरज राणा की अगुवाई में जिला की रिवर राफ्टिंग साइटों का निरीक्षण किया जाएगा।

घाटी में सैलानियों के साथ हो रहे हादसों को देखते हुए राफ्टिंग-पैराग्लाइडिंग तकनीकी जांच समिति सख्त हो गई है और मई माह में झीड़ी से लेकर रायसन तक राफ्ट और गाइडों की जांच करेगी। इसमें प्रशिक्षित गाइडों की भी जांच होगी। हालांकि समिति ने जिला में ब्यास नदी में राफ्टिंग की गतिविधियों के संचालन के लिए 82 कंपनियों को लाइसेंस जारी किए हैं, जिसके तहत करीब 350 राफ्ट शामिल हैं। लेकिन झीड़ी से लेकर रायसन तक कई जगहों पर चिह्नित साइटों को छोड़ कर हर कहीं से (अनाधिकृत) बोट को ब्यास में उतारा जा रहा है। इसमें बिना लाइसेंस के साथ अप्रशिक्षित गाइडों से रिवर राफ्टिंग करवाई जा रही है। इससे न केवल यहां लाइसेंस लेकर राफ्टिंग करवा रहे राफ्ट संचालकों का कारोबार प्रभावित है, बल्कि इससे साहसिक पर्यटन को भी नुकसान हो रहा है। उल्लेखनीय है कि जिला में साहसिक गतिविधियों में अप्रैल माह में दो सैलानियों का अपनी जान गंवानी पड़ी है। पिछले हफ्ते अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली के निदेशक कर्नल नीरज राणा की अध्यक्षता में जिला की पैराग्लाडिंग साइटों का निरीक्षण किया गया था, जिसमें डोभी, सोलंगनाला और तलोगी में 44 पैराग्लाइडरों को उड़ान भरने से रोका गया है। समिति के अध्यक्ष कर्नल नीरज राणा ने कहा कि ब्यास की धारा में हो रहे हादसे चिंताजनक है। समिति आने वाले दिनों में स्पॉट विजिट कर जांच करेगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/XovNHAAA

📲 Get Kullu News on Whatsapp 💬