[kushinagar] - दृष्टि नहीं, फिर भी जीत ली कामयाबी की दौड़, अतुल माहेश्वरी छात्रवृति से मिली सपनों को उड़ान

  |   Kushinagarnews

‘मौजें कभी तो हारेंगी तेरे यकीन से, साहिल पर हर रोज एक घरौंदा बना के देख’। किसी शायर की इस लाइन को चरितार्थ किया है जिले के नेत्र दिव्यांग राजन यादव ने। आंखों की ज्योति न होने से तमाम मुश्किलें झेलने वाले राजन यादव ने वह कर दिखाया है, जो हर मेधावी छात्र का सपना होता है। ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ की अक्टूबर में हुई ‘अतुल माहेश्वरी छात्रवृत्ति परीक्षा’ उत्तीर्ण करने वाले राजन यादव ने यूपी बोर्ड की हाईस्कूल परीक्षा में 74 प्रतिशत अंक हासिल किया है।

तुर्कपट्टी क्षेत्र के महासोन गांव के निवासी पृथ्वीनाथ यादव के पुत्र राजन यादव ने बताया कि वह बचपन से ही दोनों आंखों से दिव्यांग है। पिता किसान और माता सीता देवी कुशल गृहिणी हैं। पांच बहनों में चार बड़ी और एक छोटी है। दो की शादी हो चुकी है। अपने माता-पिता का वह इकलौता पुत्र है।...

फोटो - http://v.duta.us/e1T4CwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Rs3mpgAA

📲 Get Kushinagar News on Whatsapp 💬