[mahoba] - गरीबों व असहायों की सेवा ईश्वर की सच्ची भक्ति

  |   Mahobanews

महोबा। सत्संग समिति के तत्वावधान में रविवार को शहर के संत कबीर आश्रम में अमृतवाणी सत्संग हुए। भक्तों ने कबीरी भजन पेश कर सबको भावविभोर कर दिया। इस मौके पर वक्ताओं ने गरीबों व असहायों की सेवा को ईश्वर की सच्ची भक्ति बताया।

कार्यक्रम में वीरभूमि राजकीय महाविद्यालय के प्रवक्ता डॉ. एलसी अनुरागी ने कहा कि भारतीय संविधान में दिए गए नीति निर्देशक सिद्धांत लोकतंत्र लाने में सहायक हैं। ये सिद्धांत न्यायालयों के मार्गदर्शक और भारतीय शासन के आधार हैं। इनका उद्देश्य भारत में आर्थिक लोकतंत्र के अलावा राजनीतिक लोकतंत्र लाना है। भारतीय संविधान में शिक्षा व अर्थ संबंधी सहायता का प्रावधान है। स्वास्थ्य सुधारने, कुटीर उद्योगों को प्रोत्साहित करने, प्राकृतिक वातावरण की रक्षा करने व अंतर्राष्ट्रीय शांति बनाए रखने का भी संविधान में प्रावधान है। सत्संग कार्यक्रम में जगदीश रिछारिया ने भजन ‘घूंघट के पट खोल, तोहे पीव मिलेंगे’, सुनाया तो सब झूम उठे। बुंदेेली कवि हरदयाल ने ‘मेरे माटी के मटके राम राम बोल...’ भजन सुनाया। पं. हरीशंकर व आशाराम ने ‘मोको कहां ढूढ़े वंदे, मैं तो तेरे पास’ भजन सुनाकर भक्तों को भावविभोर कर दिया। कार्यक्रम में सीताराम पुरवार, पं. हरीशंकर नायक, किशोरदादा पुरवार, रामअवतार सहित दर्जनों भक्त मौजूद रहे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/iIokkAAA

📲 Get Mahoba News on Whatsapp 💬