[mathura] - पाली, पॉडल, नीमगांव, पानी नांय तीन गांव..

  |   Mathuranews

गोवर्धन (मथुरा)। कस्बा से सटे तीन किमी दूर आठ हजार की आबादी वाले गांव नीमगांव में आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद भी पीने के पानी का कोई इंतजाम नहीं हुआ है। पुरानी कहावत पाली, पॉडल, नीमगांव पानी नांय तीन गांव आज के समय में पूूरी तरह चरितार्थ हो रही है। गांव की महिलाएं परेशान हैं। महिलाओं का कहना है कि पानी के संकट को देखते हुए पूरा जीवन निकल रहा है।

इन गांवों में महिलाएं डेढ़ किमी दूर से पीने का पानी लाती हैं। लोगों ने घरों में टैंक बनवा रखे हैं। टैंकों में 300 रुपये खर्च कर पानी की पूर्ति की जाती है। शासन-प्रशासन ने आज तक कोई इंतजाम नहीं किए हैं। ग्रामीण राजू शर्मा का कहना है कि 10 वर्ष पूर्व पेयजल योजना की स्वीकृति हुई थी, लेकिन कागजों में ही दब कर रह गई। प्रधान योगेंद्र सिंह का कहना है कि दो वर्ष पूर्व पेयजल के लिए 2.67 करोड़ की योजना स्वीकृति हुई, जिसमें काम होना था, लेकिन धनराशि स्वीकृत नहीं हुई।...

फोटो - http://v.duta.us/nAYH_gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/EmEA2AAA

📲 Get Mathura News on Whatsapp 💬