[satna] - जिंदगी टेप रिकार्डर नहीं, रेडियो की तरह है जो बजेगा वैसा ही सुनना पड़ेगा

  |   Satnanews

सतना. एकेएस विश्वविद्यालय के माइनिंग इंजीनियरिंग संकाय के बीटेक डिग्री और डिप्लोमा के जूनियर्स ने सीनियर्स के लिए रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों से सजीधजी फेयरवेल पार्टी का आयोजन किया। इंद्रधनुषी रंगों में संवारे गए प्रांगण में हजारों छात्रों ने बूम-बूम करके सीनियर्स को उनकी दी हुई पूर्व के वर्षों की फेयरवेल पार्टी की याद ताजा करा दी। इंजी. आरके श्रीवास्तव ने स्टूडेंट्स को उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। विवि. के प्रो चांसलर अनंत कुमार सोनी ने जीवन का फ लसफ ा बताते हुए स्टूडेंट्स से कहा कि जिंदगी धूप-छांव का नाम है जैसे टेप रिकार्डर में हम रिवर्स और फावर्ड करके कोई गीत सुन सकते हैं वैसा जिंदगी में नहीं होता, यह एक पहेली है, जिंदगी रेडियो की तरह है जिसमें जो प्रस्तुति और गीत बजते हैं वही हमें सुनना पड़ता है। विवि. के कुलपति प्रो. पारितोष के बनिक ने बच्चों को शुभाकामनाए दी। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के गुलदस्ते से नगमे, नृत्य, हास्य कणिकाएं भी आकर्षण का विशेष केन्द्र रहीं। कार्यक्रम में मि. फेयरवेल का चयन किया गया। ग्रुप फ ोटो क्लिक की गई। सेल्फ ीज ली गई और फि र मिलेंगे चलते चलते गीत के साथ समापन हुआ।

फोटो - http://v.duta.us/oWE8AgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/rg4OMgAA

📲 Get Satna News on Whatsapp 💬