[uttar-pradesh] - ...तो बीजेपी के राष्ट्रवाद को 'चुनौती' दे रहा है सपा कैंडिडेट तेज बहादुर यादव!

  |   Uttar-Pradeshnews

समाजवादी पार्टी ने ऐन वक्त पर शालिनी यादव का टिकट काटकर उनकी जगह बीएसएफ से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव को मैदान में उतारा है. पीएम नरेंद्र मोदी को चुनौती दे रहे तेज बहादुर को सेना में ख़राब खाने के मुद्दे को उठाने के लिए बीएसएफ से बर्खास्त किया गया था. तेज बहादुर को टिकट दिए जाने के कई सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं.

वैसे तो भव्य रोड शो के बाद वाराणसी से मोदी को चुनौती देता भी कोई नहीं दिख रहा है. ऐसे में सवाल ये है कि सपा ने तेज बहादुर को उनके खिलाफ उतारकर कौन सी सियासी चाल चली है. जानकारों की माने तो इसकी दो वजह हो सकती है. वरिष्ठ पत्रकार और राजनैतिक मामलों के जानकार रतनमणि लाल मानते हैं कि इसकी दो वजह हो सकती है. पहली वजह ये है कि मोदी के खिलाफ कोई ऐसा चेहरा चाहिए जो चुनौती देता दिखे. क्योंकि मोदी विनिंग कैंडिडेट हैं, ऐसे में कोई इतनी हिम्मत दिखाए कि वह चुनाव लड़ सकता है. शालिनी यदाव और कांग्रेस के अजय राय दोनों ही ऐसे उम्मीदवार नहीं हैं. अजय राय की पिछले चुनावों में जमानत जब्त हुई थी. ऐसे में दोनों ही दलों को ऐसा प्रत्याशी नहीं मिल रहा था कि मोदी को चुनौती दे सके. लाजमी भी है कि कोई बड़ा नेता जानबूझकर चुनाव क्यों हारे. इसलिए एक ऐसे उम्मीदवार की तलाश थी जिसमे चुनौती देने की वजह मौजूद हो....

फोटो - http://v.duta.us/sZ_q-gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/hvRBrwAA

📲 Get UttarPradesh News on Whatsapp 💬