अध्ंारे में जगी उम्मीद की 'किरणÓ

  |   Udaipurnews

उदयपुर/ झाड़ोल. जनजाति बाहुल्य झाड़ोल उपखण्ड क्षेत्र में स्वयं सेवी संस्था की ओर से बच्चों को पढ़ाने के लिए जारी प्रयास रंग ला रहे हैं। इस वर्ष के परीक्षा परिणामों में संस्था के अधीन पढऩे वाले बच्चों का परिणाम 93.33 प्रतिशत रहा है। वह भी ऐसे बच्चों को जिन्होंने 2 से 5 साल पहले स्कूल जाना बंद कर दिया था। संस्था प्रतिनिधियों की इस मेहनत ने राजकीय स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों की योग्यता की पोल खोल कर रख दी है। मोटी तनख्वाह लेने के बाद भी जहां क्षेत्र के राजकीय विद्यालयों में सेवारत शिक्षक परिणाम नहीं दे रहे वहीं स्वयं सेवी संस्थान के प्रयासों ने गरीब बच्चों के भविष्य को लेकर उम्मीद की नई किरण जगाई है। हकीकत देखें तो सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम 20 से 60 फीसदी रहा है। वहीं बीते 6 साल से सक्रिय स्वयं सेवी संस्थान प्रथम राजस्थान के महज 6 विषय अध्यापकों ने 7 अलग-अलग पंचायतों में उनके केंद्रों पर 14 से 35 वर्ष आयु वर्ग के कुल 120 जनों को इस वर्ष १०वीं कक्षा की तैयारी कराई। प्रत्येंक केन्द्र पर एक प्रभारी के माध्यम से हर रोज दो से 4 घंटे का अध्ययन कराया गया। इनमें से ११२ परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए। इनमें 97 लड़कियां व 15 लड़के शामिल हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/2p3MNQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/xwBgwAAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬