जनप्रतिनिधियों ने नहीं उठाया बोझा गांव के विकास का बोझ

  |   Mainpurinews

मैनपुरी- किशनी। विकास खंड किशनी क्षेत्र के गांव बोझा में ग्रामीण मूलभूत सुविधाओं को तरस रहे हैं। कच्ची गलियां होने के कारण बरसात में ग्रामीणों को परेशानी उठानी पड़ती है। यादव बाहुल्य गांव बोझा की कुल आबादी 600 है। गांव में विकास की कोई किरण नहीं दिखती है। गांव की गलियों की हालत बेहद खराब है। भीषण गर्मी के दिनों में भी गलियों में पानी भरा रहता है। कई गलियां इतनी ऊबड़खाबड़ हैं कि उनमें पैदल निकलना भी मुश्किल हो जाता है। कुछ गलियों में दशकों पूर्व किसी प्रधान ने खड़ंजा बनवा दिया था।

इसके बाद आजतक खड़ंजा नहीं बनाया गया। कुछ गलियों में आज तक खड़ंजा बनाया ही नहीं गया। गांव के लोगों का आरोप है कि उनके गांव में कई नेता हैं पर उन्होंने सिर्फ अपना विकास किया है। गांव के विकास में उनकी कोई रुचि नहीं रही। गांव के विकास के लिए पैसा तो आया पर उसका प्रयोग कहां हुआ यह किसी को नहीं पता। विकास से कोसों दूर बोझा के लोगों ने रविवार को गांव में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन करने वालों में सूरज देवी, शीला देवी, अनीता देवी, श्रीकुमारी, श्यामदेवी, रामप्यारी, सुदामा देवी, सुघरश्री, संजीव कुमार, शिशुपाल यादव, रामवीर यादव, राहुल यादव, सहदेव सिंह, मुकुल यादव, आशू यादव, सुरजीत सिंह, धर्मेंद्र यादव, धर्मपाल यादव मौजूद रहे।

फोटो - http://v.duta.us/707rkgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/NXfqsAAA

📲 Get Mainpuri News on Whatsapp 💬