पांच सौ में से साढ़े तीन सौ प्रसूताओं को चढ़ाना पड़ती है खून की बोतलें

  |   Dharnews

धार.

अगस्त महीने में भूरी बाई को दूसरी डिलेवरी है, लेकिन उसका हिमोग्लोबिन केवल 6 ग्राम है। सासु सुशीला बाई का कहना है कि परिवार में खाने पिने की कमी नहीं है, लेकिन बहू दवाईयां खाने में लापरवाही करे तो परिवार वाले क्या कर सकते हैं। भूरी बाई पति रवि की उम्र करीब 28 वर्ष है, जो छटिया(आहू) की रहने वाली है। डॉक्टर ने जांच के बाद भूरी की दूसरी डिलेवरी 2 अगस्त के आसपास बताई है, जो करीब तीन वर्ष पूर्व एक बच्ची को जन्म दे चुकी है। तब भी भूरी खून की कमी से परेशान थी। हालांकि खून की पूर्ति करने के लिए अब तक दो बोतल खून की चढ़ाई जा चुकी है, जिसें डिलेवरी से पहले रक्त पूर्ति के लिए एक बोतल और खून देना पड़ेगा।...

फोटो - http://v.duta.us/K8Hk7gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/FkzFdQAA

📲 Get Dhar News on Whatsapp 💬