प्रसूताओं में खून की कमी, 523 में से 358 को चढ़ रहा ब्लड

  |   Indorenews

धार. जिले की प्रसूताएं खून की कमी का शिकार हो रही हैं।। इससे कई महिलाओं को एनीमिया हो जाता है। जिला अस्पताल में मई में हुई 523 डिलीवरी हुई, जिनमें से 358 प्रसूताओं को खून चढ़ाना पड़ा। इनमें से 62 डिलीवरी ऑपरेशन से हुई, जो सभी खून की कमी से ग्रसित रहीं। महिलाओं में खून की कमी गंभीर चिंता का विषय है, जिसकी रोकथाम के लिए जन जागरूकता की जरूरत है।

जिला अस्पताल के अनुसार प्रसूति के लिए आने वाली प्रत्येक प्रसूता में खून की कमी रहती है, जो खान-पान और दवाई खाने की लापरवाही है। अस्पताल आने वाली 523 प्रसूताओं में से लगभग 358 को खून की बोतलें चढ़ाना पड़ती है। डॉ. सुधीर मोदी के अनुसार मां में खून की कमी में जन्मे बच्चे भी कमजोर होते हैं और करीब 20 वर्ष की उम्र में ही वे डायबिटिक हो जाते हैं। शुगर की समस्या से ग्रसित बच्चों का दिमाग पूर्ण रूप से से विकसित नहीं हो पाता और उन्हें कई बीमारियां पकड़ लेती हैं। डॉ. मोदी के अनुसार प्रसूता का हीमोग्लोबिन कम से कम 11 मिली ग्राम होना जरूरी है।...

फोटो - http://v.duta.us/PxMTEQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/miQVMwAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬