साल भर बीतने के बाद भी पॉलिथीन का चलन बरकरार

  |   Hardoinews

हरदोई। सूबे में 15 जुलाई 2018 से मानक विहीन पॉलिथीन के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसका कड़ाई से अनुपालन कराने का जिम्मा जिला प्रशासन व पालिका को संयुक्त रूप से सौंपा गया। लेकिन जिले की सूरत कुछ और ही बयां करती है। ठेले और खुमचा दुकानदारों में धड़ल्ले से इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। कूड़ेदान में पड़ी पॉलिथीन को जानवर खा रहे हैं।

पॉलिथीन के घातक परिणामों के चलते 15 जुलाई 2018 को कोर्ट के आदेश पर सरकार ने 50 माइक्रोन से कम की पॉलिथीन के चलन व उसके कारोबार पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिला प्रशासन के साथ ही नगर पालिका व नगर पंचायतों ने अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया था। बंदी के बाद भी प्रतिबंधित पॉलिथीन बेचने वाले दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। प्रशासन की सख्ती के बाद मानक विहीन पॉलिथीन के चलन पर काफी हद तक अंकुश लगा था, साथ ही बाजार में कपड़े व कागज के कैरी बैग चलन में आ गए थे। इधर वक्त बीतने के साथ ही प्रशासन व नगर पालिका/पंचायत प्रशासन ने अभियान सुस्त/बंद कर दिया। इसके चलते एक बार फिर से बाजार में प्रतिबंधित पॉलिथीन का चलन जोर पकड़ चुका है। किराना व्यवसायी, फल व सब्जी विक्रेता समेत अन्य दुकानदार धड़ल्ले से इन पॉलिथीनों का प्रयोग कर रहे हैं। साथ ही बाजार में व्यापारियों की दुकानों पर भी यह पॉलिथीन आसानी से उपलब्ध हो रही हैं।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/LErrhQAA

📲 Get Hardoi News on Whatsapp 💬