65 गज के मकान के मालिकाना हक पर मचा था बवेला

  |   Bareillynews

साइड स्टोरी

महिला होमगार्ड को जलाने का मामला

65 गज के मकान के मालिकाना हक पर मचा था बवेला

भाई के मकान की वसीयत होमगार्ड के नाम थी, कब्जा दामाद विजय का था

बरेली। महिला होमगार्ड पर केरोसिन डालकर जलाने के मामले में एक मकान की वसीयत का किस्सा सामने आया है। वसीयत के बाद से बवेला मचा था। रिश्तेदारों के दिल में ऐसी गांठ पड़ी थी जो नासूर बनती जा रही थी और नतीजा इस अग्निकांड के रूप में सामने आया।

कांति देवी के भांजे दीपक व अन्य रिश्तेदारों ने बताया कि उनके कांति देवी के पिता टीकाराम मूल रूप से सिकलापुर के निवासी थे। कांति देवी पांच बहनें और एक भाई देवकीनंदन थे। टीकाराम अपने बेटे देवकीनंदन से खुश नहीं रहते थे, इसलिए उन्होंने अपने 65 वर्षीय मकान की वसीयत बेटी कांति देवी के नाम कर दी थी। कांति देवी को मकान देने की वजह ये भी थी कि करीब 35 साल पहले से उनका पति नत्थूलाल से मनमुटाव था। पति दो बेटों के साथ शाहदाना के मकान में तो कांति देवी दो अन्य बेटों के संग संजय नगर के मकान में रहती थीं। बताया कि सवा दो साल पहले देवकीनंदन की मौत हो गई। तब उनकी गोद ली हुई बेटी कुसुम के पति विजय ने इस मकान पर कब्जा कर लिया। कई बार दोनों पक्षों में विवाद और पंचायत हो चुकी थी। कांति देवी पुलिस और कोर्ट की मदद से मकान लेने की चेतावनी दे चुकी थीं। महीने भर से विजय शांत था। कहने लगा था कि वह अपना मठ चौकी का पुश्तैनी मकान सही करा रहा है, जल्दी कब्जा छोड़ देगा। इस वजह से दोनों पक्षों में बातचीत फिर शुरू हो गई थी। इसलिए कॉलेज गेट पर बातचीत के दौरान उन्हें ये अहसास नहीं था कि विजय ये घटना कर देगा।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/nah0qgAA

📲 Get Bareilly News on Whatsapp 💬