कम उम्र की विधवा बच्चियों को खेतों में काम करते देखा, तो शुरू की उनका जीवन सवारने की पहल

  |   Hoshangabadnews

होशंगाबाद। अब समाज से ऊपर उठ कर, इस श्वेत नियम को बदलना होगा, विधवा को भी रंगों का हक है, इस सत्य को सबको मानना होगा...इन कविता की चंद लाइनों को सच कर दिखाया चंद्रपुरा गांव के लालता प्रसाद ने। जो समाज की कल्याणियों का पुनर्विवाह कराकर उनको समाज में नई पहचान दिला रहे हैं। लालता प्रसाद चार साल में 28 बेटियों का पुर्नविवाह, कल्याणीयों और तलाक शुदा महिलाओं के परिजनों को जागरूक कर उन्हे सामाजिक और आर्थिक रूप से मजबूत करने का काम कर रहे हैं। चौधरी के अनुसार उनका उद्देश्य महिलाओं को समानता का अधिकार दिलाना और सामाजिक रूढि़वादिता को खत्म करना है। उप्होनें यह कार्य पहले वरिष्ठ समाजसेवी बनबारी लाल चौधरी के साथ मिलकर यह काम करते थे, अब अकेले ही निस्वार्थ भाव से समाज की बहू, बेटियों व उनके परिवारजनों को पुनर्विवाह करने के लिए जागरूक कर रहे हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/gQutAwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/1WXo6gAA

📲 Get Hoshangabad News on Whatsapp 💬