लंबे समय से किसान तय डिजाइन के अनुसार नहर में पानी चलने का कर रहे इंतजार

  |   Hanumangarhnews

लंबे समय से किसान तय डिजाइन के अनुसार नहर में पानी चलने का कर रहे इंतजार

हनुमानगढ़. नहरी विभाग के तत्कालीन अफसरों और नीति निर्धारकों की महज एक गलती का खामियाजा राजस्थान के लाखों किसान बीते चार-पांच दशक से भुगत रहे हैं। बावजूद इस गलती को सुधारने के प्रति ना तो केंद्र सरकार गंभीरता दिखा रही और ना ही बीबीएमबी से जुड़े संबंधित राज्य ही इस समस्या के समाधान को लेकर आगे आ रहे हैं। नहरी तंत्र के हालात ऐसे हैं कि बांधों में इस वक्त खूब अच्छी आवक हो रही है। मगर इस पानी का उपयोग राजस्थान सहित संबंधित राज्य चाहकर भी नहीं कर पा रहे हैं। इसका बड़ा कारण यह है कि करीब पांच दशक पहले जब पौंग और भाखड़ा बांध का निर्माण कार्य पूर्ण करवाकर इंदिरागंाधी मुख्य नहर का निर्माण किया गया था, उस वक्त अफसरों ने जीरो आरडी के पास जो हैड बनाया, उसकी क्षमता महज १५००० क्यूसेक निर्धारित कर दी। जबकि इस नहर में पानी चलाने की क्षमता १८५०० डिजाइन की गई थी। इस बड़ी लापरवाही के चलते आज तक इंदिरागांधी नहर में डिजाइन के अनुसार पानी चलाना संभव नहीं हो रहा है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/7ElktwAA

📲 Get Hanumangarh News on Whatsapp 💬