साहब! प्रसूता को डॉक्टर और नर्स इतना डराते हैं कि वह प्राइवेट में जाने को मजबूर हो जाए

  |   Sehorenews

सीहोर. साहब! सिविल अस्पताल में डिलेवरी के लिए आने वाली प्रसूताओं को डॉक्टर और नर्स इतना डराते हैं कि वह प्राइवेट अस्पताल में जाने को मजबूर हो जाती हैं। यहां सीजर के लिए अतिरिक्त पैसे देने पड़ते हैं। यह शिकायत शनिवार को आष्टा सिविल अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे प्रभारी मंत्री आरिफ अकील से पूर्व पार्षद शबाना महमूद और शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष इदरीश मंसूरी ने की। कांग्रेस नेता ने प्रभारी मंत्री से यहां तक कहा कि यह अस्पताल नहीं, डिलेवरी उद्योग बन गया है।

सिविल अस्पताल का निरीक्षण करने आष्टा पहुंचे प्रभारी मंत्री आरिफ अकील के साथ कलेक्टर अजय गुप्ता ने भी अस्पताल की व्यवस्थाएं देखीं। प्रभारी मंत्री ने आष्टा सिविल अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद सभी डॉक्टर्स को कारण बताओ नोटिस देने के आदेश दिए हैं। डॉक्टस पर आरोप है कि वे वार्ड में राउंड पर नहीं जाते हैं। सात दिन में से पांच दिन ऐसे होते हैं जब यहां मरीज दर्द से तड़पते रहते हैं और अस्पताल से डॉक्टर्स गायब होते हैं। प्रभारी मंत्री आरिफ अकील ने मरीजों से भी वार्ड में पहुंचकर चर्चा की और सात दिन में अस्पताल की व्यवस्थाएं दुरूस्त करने का भरोसा दिलाया है। प्रभारी मंत्री अकील ने डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ को फटकार लगाते हुए कहा कि यदि किसी को काम नहीं करना है तो वह सीहोर से बाहर ट्रांसफर करा ले, सीहोर में रहेंगे तो काम करना पड़ेगा और जो व्यक्ति अपने काम में लापरवाही करेगा, उसे छोड़ा नहीं जाएगा।...

फोटो - http://v.duta.us/6ag7cgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ejwU4wAA

📲 Get Sehore News on Whatsapp 💬