12 दिन में 40 हजार बच्चों की हुई स्क्रीनिंग, 1300 से अधिक बच्चे मिले गंभीर बीमारियों से ग्रसित

  |   Katninews

कटनी. स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग सहित जिला प्रशासन द्वारा कुपोषण को मिटाने के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन कटनी जिले में सभी नाकाफी साबित हो रहे हैं। प्रॉपर मॉनीटरिंग न होने व योजनाओं का ठीक से क्रियान्वयन के अभाव के चलते जिले से कुपोषण का कलंक नहीं मिट रहा। हाल ही में विभाग द्वारा दस्तक अभियान शुरू किया गया है, जिसमें एक बार फिर व्यवस्थाओं की पोल खुलकर सामने आ गई है। नौनिहालों को न सिर्फ कुपोषण जकड़े हुए है बल्कि गंभीर बीमारियों से ग्रसित मिल रहे हैं। 10 जून से शुरू हुए दस्कत अभियान से जिले में नौनिहालों की स्थिति सामने आ रही है। 21 जून तक हुई बच्चों की स्क्रीनिंग में आंकड़े चौकाने वाले हैं। जिले के 8 सेक्टरों में 166 दस्तक दलों द्वारा अबतक गांवों की नब्ज टटोली गई है। इसमें 5 वर्ष तक क 39 हजार 916 बच्चों की स्क्रीनिंग अबतक हुई है। इसमें 1306 बच्चे ऐसी हालत में मिले हैं जो किसी ने किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं और उन्हें तत्काल उपचार की जरुरत है। दलों द्वारा ऐसे बच्चों को समीपी स्वास्थ्य केंद्र व जिला अस्पताल रैफर किया गया है।...

फोटो - http://v.duta.us/ofqjLwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/h_B5PwAA

📲 Get Katni News on Whatsapp 💬