रेलवे का निजीकरण कदापि नहीं होगा: रेलमंत्री

  |   Budaunnews

यात्री सुविधाओं समेत नई लाइन परियोजनाओं, माल गलियारा और स्वर्णिम चर्तुभुज पर 50 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे

बरेली। भारतीय रेल ने आ रही चुनौतियों से निपटने के लिये पिछले पांच वर्षों में विकासपरक परियोजनाओं में तेजी से कार्य किया। इसमें भारतीय रेल के 13 लाख कर्मचारियों ने अपना सराहनीय योगदान दिया। ये बातें रेल मंत्री पीयूष गोयल ने संसद में रेल मंत्रालय के लिये वर्ष 2019-20 के अनुपूरक मांग पर बहस के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के विकास के लिये पिछले पांच वर्ष में अनवरत कार्य किया।

रेलमंत्री ने कहा कि वर्ष 2014-19 के बीच नई रेल लाइन निर्माण, दोहरीकरण, तीसरी लाइन एवं चौथी लाइन निर्माण में 64 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इसी प्रकार वर्ष 2009-14 के मध्य 3038 किमीमीटर के सापेक्ष वर्ष 2014-19 के मध्य 13687 किमी. रेल पथ का विद्युतीकरण कार्य पूरा हुआ। वर्ष 2013-14 में विद्युतीकरण का कार्य लगभग 650 किमी. का ही पूर्ण हुआ, जबकि वर्ष 2017-18 में 4087 किमी. एवं 2018-19 में 5200 किमी. का विद्युतीकरण पूर्ण हुआ।...

फोटो - http://v.duta.us/lOXBAwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/L9g2KwAA

📲 Get Budaun News on Whatsapp 💬