आगरा में सड़क हादसे की संबंधित खबर (01): ध्यानार्थ.... (लखनऊ, दिल्ली समेत सभी केंद्र)

  |   Agranews

मैं खेत में शौच के लिए आया था। झरना नाले के पास ही था। तभी तेज आवाज आई। लगा कि नाले में कोई बस या ट्रक गिरा है। मैं दौड़ा आया, बस गिरी थी। चीख पुकार मची थी। बस आधी से ज्यादा डूब चुकी थी। लोग बाहर निकलना चाह रहे थे, लेकिन शीशे लगे थे। बस से खून बाहर आ रहा था। मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूं, मेरे पास मोबाइल भी नहीं था, जो किसी को फोन करके बुला लेता।

मैं पानी में उतर गया। शीशा तोड़ा, बस से दो -तीन लोगों को बाहर निकाला। एक की जेब में मोबाइल था, उसे लेकर 100 नंबर पर पुलिस को फोन किया। मैंने सोचा, पुलिस तो पता नहीं कब आएगी। मुझे ही कुछ करना होगा, वरना सब लोग मर जाएंगे। जिन्हें बाहर निकाला था, उनमें से एक युवक ने पैर पकड़ लिए। बोला, मेरी पत्नी और बच्चे अंदर हैं, उन्हें निकलवाओगे, देर हुई तो मर जाएंगे। मैं भागकर गांव गया, गांव पास में ही है एक डेढ़ किलोमीटर पर। मैंने गांव में जाकर शोर मचाया, लोग दौड़े चले आए।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Igd2MQAA

📲 Get Agra News on Whatsapp 💬